जीवन स्पर्श – Renu Mishra

जीवन स्पर्श – Renu Mishra

नहीं, 
तुम मेरे परिचय नहीं हो सकते
मैं तो परमानंद हूँ 
परम ब्रह्म परमात्मा हूँ 
फिर तुम कौन हो
जो मुझमें उदास विचरते हो…..!!!
 
रेणु

Leave a Reply